Shuddha Chaitanya Anshatma Kalpdroom Vigyan Private Community


नम्र सुचन:

ज्ञान और विज्ञान के लिए यह  कोई ‘फ़ी या शुल्क’ नहीं है, कंट्रीब्युशन है, जिसको समर्पण कहते है। ज्ञान और विज्ञान तो ब्रह्मांड के सृजक और ईश्वर की देन है।

यह कंट्रीब्युशन एक समर्पण है, और हम इसलिए करवाते है , क्योंकि;

  • यह विज्ञान और विज्ञान हाउस को सरकारी ग्रांट नहीं है।
  • यह कोई धार्मिक या सांप्रदायिक संस्था नहीं है, जिसमें दान मिलता हो।
  • यदि व्यक्ति समर्पित नहीं होता है तो, यह विज्ञान कार्य नहीं करेगा।
  • समर्पण करने से, ईस विज्ञान प्रणाली को यह पता चलता है की व्यक्ति सिन्सियर है, उनको वास्तव में जरूरत है और वह ईस महान विज्ञान को जानता नहीं है।
  • इसलिए कंट्रीब्युशन के रूप में यहाँ डी गई राशि जमा करवाना जरूरी है। जिसको हम विज्ञान दक्षिणा गिनते है।
  • यहां बताई गई राशि से ज्यादा आप कितना भी चाहे उतना ज्यादा कंट्रीब्युशन दे सकते है, जिसका उपयोग हम जनजाति (आदिवासी) (tribal) बच्चों को कल्पद्रुम विज्ञान देने में करेंगे। जो आपका अपरोक्ष रीत से ज्ञान-दान हो जाएगा।

Eligibility to become Member of this community

  • To give sponsorship (gift) of e-Kalpdroom to 108 Tribal Child  and for Kalpdroom Vigyan Bhavan Contribution. with the minimum contribution of ₹2,50,000 (₹2,50,000 or above), For NRI $5,000 usd (INR ₹4,25,000 or above).

After become a member of this private community

  • Member can get Shuddha Chaitanya Anshatma Sakshatkar Vigyan (it’s one hour shuddha chaitanya realization process given by Chaitanya Adhyatmik Vigyani Lalit)
  • Weekly Online Nididhyasan Live up to one year.

सभ्य को एक घंटे की वैज्ञानिक विधि में बिठाया जाता है। जिस में शुद्ध चैतन्य आत्म-साक्षात्कार विज्ञान प्राप्त होता है।

After one year, Annual contribution fees (renewable);

Self Nididhaysan Meet. System fees for online meet.

  • ₹12500 + (₹12500 or above) for Indian Resident. Online Weekly Meeting.
  • ₹125000 + (₹125000 or above) for Indian Resident,  Group meet at vigyan house.
  • ₹125000 + (₹125000 or above) for NRI.

Why this contribution is required in advance?

Because of, this science is only work if the person(seeker) surrendered his/her mind, intellect, consciousness and ego to Vigyani Lalit and System. It’s Vigyan Dakshina.

This dedication shows that the person is not doubtful. And he is devoid of the ego of ‘I know’.

यह कंट्रीब्युशन इसलिए जरूरी है कि, यह विज्ञान तभी वर्क करेगा की जब व्यक्ति (जिज्ञासु) अपना मन-बुद्धि-चित्त-अहंकार विज्ञानी ललित को और विज्ञान प्रणाली को समर्पित करेगा। यह विज्ञान दक्षिणा है।

ईस समर्पण से यह पता चलता है कि व्यक्ति शंकित नहीं है। और वह ‘मैं जानता हूँ’ एसे अहंकार से रहित है।


Both husband and wife are included in this contribution amount. There is no need to give separate contributions to husband and wife.

Both are given pure consciousness self-realization.

ईस कंट्रीब्युशन राशि में पति-पत्नी दोनों का समावेश हो जाता है। पति और पत्नी को अलग अलग कंट्रीब्युशन देने की जरूरत नहीं है।

दोनों को शुद्ध चैतन्य आत्म-साक्षात्कार दिया जाता है।


To join this private community, for transfer the above contribution amount. please contact to Vigyani Lalit at following phone No.:

+91 96389 79999

Bank Transfer

Account Number: 50200058906364

Account Name: Yujom Life Science

Bank Name: HDFC BANK

Branch: Parle Point, Surat

IFSC: HDFC0000067